किताबें

अविनाश मिश्र का ‘चौंसठ सूत्र सोलह अभिमान’, जहां दैहिक प्रेम प्रार्थना में बदल जाता है

अविनाश मिश्र के कविता संग्रह चौंसठ सूत्र, सोलह अभिमान को हिन्दी की प्रेम कविताओं की परंपरा में देखा जाना चाहिए।...

Read more

कई धारणाएँ तोड़ते हैं ‘पतनशील पत्नियों के ये नोट्स’

हिन्दी साहित्य में फेमिनिज्म या स्त्रीवाद को बेहद गुस्सैल, आक्रामक और रुखे अंदाज में प्रस्तुत किया जाता है। नीलिमा चौहान...

Read more
Jason Pierre-Paul Authentic Jersey