Monthly Archive: December 2016

प्रेगनेंसी, बाजार और दया

एक भाभी जब गर्भवती हुई, तब पूरे गर्भकाल आठवे महीने तक तैराकी, साइक्लिंग, ट्रेकिंग पर जाना करती थी । जब भतीजी पैदा हुई तो दर्द हुआ केवल 10 मिनट और डॉक्टर तक पहुंचने से...

More

विकास के दावों पर थप्पड़ हैं भारत के ये रेड लाइट एरिया

भारत का नाम संस्कृति, सभ्यता और महिलाओ के सम्मान के लिए पूरी दुनिया में जाना जाता है। जहाँ पर महिलाओ को देवी के रूप में पूजा जाता है। भारत में सभ्यता और संस्कृति के...

More

रूमानियत नहीं दोस्ताने की जरूरत है स्त्री पुरुष संबंधों में

सिमोन ने ही नहीं महादेवी वर्मा ने भी दबे स्वर मे यह बात कही है कि हमारे समाज की आंतरिक बनावट जिस तरह की रही है ,वहाँ स्त्री-पुरुष के बीच परस्पर प्रेम नहीं हो...

More

आपने क्या सोचा कि मैं मर जाऊंगी?

कुछ साल पहले सीमा बिस्वास का एक नाटक देखने को मिला था। रबीन्द्रनाथ रचित स्त्री पात्र केंद्रित नाटक ‘स्त्रीर पत्र‘ समाज में स्त्रियों की दयनीय स्थिति को बयां कर रहा था। एक स्त्री के...

More

यौन शिक्षाः आप बात करके देखिये तो, सब आसान हो जाता है

चलिये, आज एक जरूरी बात करते हैं। मां के रूप में स्त्री की भूमिका के हर पहलू पर बात होती है, परन्तु जैसे जैसे तेजी से समय बदल रहा है और बच्चे प्री-टीन में ...

More

चिकनी, पटाखा, आइटम… फिल्मों में लड़कियों के लिए अपमानजनक शब्दों की भरमार

छेड़छाड़ केवल शारीरिक नहीं होती बल्कि भद्दे और अश्लील शब्द भी लड़कियों के मन को छलनी कर जाते हैं। ऐसे शब्दों की हमारे शब्दकोष में भरमार है और सिनेमा ने उनके प्रचार और संख्या...

More

खिड़की, आर-पार की (लघु कथा)

आज फिर चार बजे बाहर गैलरी में बनी खिड़की के पास कुर्सी बिछाकर बैठ गई। यह क्रम पिछले दो साल से अनवरत चल रहा। करूँ भी तो क्या? सुबह के काम की भागदौड़ और...

More

दोस्ती, जीवन भर के लिए…

एक लोक कलाकार और एक आर्स्टिस्ट की अनोखी प्रेम कहानी मेरा नाम अज्ञेश है। मैं छत्तीसगढ़ के राजनंद गांव से हूं। पढ़ाई बस पांचवीं तक हुई है। पिता देवीलाल नाग छत्तीसगढ़ी नाचा लोकनृत्य करते...

More

क्योंकि तुम बेटे हो…

Geeta Yatharth

गीता यथार्थ विभिन्न मुद्दों पर अपनी बेबाक शैली में लेखन के लिए सोशल मीडिया पर काफी लोकप्रिय हैं।  हमने चुनी थी उनकी फेसबुक वॉल से ली गई एक बेहद संवेदनशील चिट्ठी, जो उन्होंने अपने...

More

एक लड़का जिसके लिए पीरियड्स पर बात करना झिझक का विषय नहीं

मेरा रंग के इस एपिसोड में मिलिए बंटी त्रिपाठी से, जो एक पुरुष होने के बावजूद पीरियड्स पर सोशल टैबू को खत्म करने में प्रयासरत हैं। उन्होंने सोशल मीडिया के जरिए इस मुद्दे पर झिझक...

More