Author: मेरा रंग

क्या स्त्रीवादी पोर्न भी हो सकता है?

जन-विश्वासों के उलट कई विश्व-स्तरीय शोध यह बताते हैं कि संयत और शांत पोर्नोग्राफी का उपयोग प्रयोक्ता को हिंसक या लैंगिक भेदभाव करने वाला नहीं बनाता। टेक्सास टेक विश्वविद्यालय में वर्ष 2004 में प्रकाशित...

More

पोर्न देखा जा रहा है, आप किसे दोष देंगे?

स्कूल, कॉलेज से लेकर संसद भवन तक छिप कर पोर्न देखा जा रहा है। तब आप दोष किसे देंगे ? सीधा अभिप्राय है कि जिस प्रवृत्ति को जितना दबाया जा रहा है, वह चोरी-छिपे...

More

यह पोर्न क्या है और अश्लीलता क्या है?

वास्तव में भारतीय संस्कृति में कौमार्य का पवित्रता से ऐसा नाता जुड़ा है कि अपवित्र हो जाने के डर से विपरीत लिंग के प्रति शिक्षा व जानकारी तक से दुराव होने लगा, कि कहीं...

More

भारतीय समाज का ‘पर्दादार’ होना अब केवल एक भ्रम है

पोर्न उद्योग के विस्फोटक विकास के सामाजिक कारणों और परिणामों पर विस्तार से विचार किया जाना चाहिए। कच्चा मन स्वयं के शरीर और विपरीत लिंग के विषय में अनेक प्रश्नों से भरा है, प्रश्न...

More

दो घटनाएं और पोर्न की दुनिया से रू-ब-रू होना

बात पुरानी है, नई है, अपने समय में हर समय की है। सड़कें आमतौर पर किसी भी शहर का आईना होती हैं। जिन पर टहलते हुए उस समाज की नब्ज़ टटोली जा सकती है।...

More

हम लड़कियां कब मां की जगह ले लेती हैं, पता ही नहीं चलता…

मुझे याद नहीं कि बचपन में कभी सिर्फ इस वजह से स्‍कूल में देर तक रुकी रही होऊं कि बाहर बारिश हो रही है। भीगते हुए ही घर पहुंच जाती थी। और तब बारिश...

More

लड़कियाँ गौरैया होती है

लड़कियाँ गौरैया होती है फुदकती हैं एक डाल से दुसरी डाल तक मुस्कुराती हैं अपने टेढ़े मेढ़े दांतो से पकड़ लेती हैं अपनी चोंच में कुछ टुकड़े अनाज के वो आंगन सूना होता है...

More

कई धारणाएँ तोड़ते हैं ‘पतनशील पत्नियों के ये नोट्स’

हिन्दी साहित्य में फेमिनिज्म या स्त्रीवाद को बेहद गुस्सैल, आक्रामक और रुखे अंदाज में प्रस्तुत किया जाता है। नीलिमा चौहान की किताब पतनशील पत्नियों के नोट्स सबसे पहले इसी प्रचलित धारणा को तोड़ती है।...

More

एक औरत के पास भी है फैंटेसी की दुनिया

‘लिपिस्टिक अंडर माइ बुर्का’ कैसी फिल्म है, मुझे मालूम नहीं! लेकिन इस फिल्म ने हमारा ध्यान कुछ ऐसी बातों की तरफ खींचा है, जो बेहद बुनियादी हैं, मगर उन्हें पुरूष प्रधान समाज मानना ही नहीं...

More

जो रेप करता है सिर्फ वो नहीं आप भी अपराधी हैं!

हमारी कथनी और करनी में कितना अंतर है, इसका उदाहरण हम कुछ दिनों पहले दिल्ली में हुई रेप की घटना से देख सकते है। जहाँ हम 8 मार्च को महिलाओं के स्वावलंबी होने, उनकी हिम्मती होने...

More