Category: मेरी अभिव्यक्ति

हम लड़कियां कब मां की जगह ले लेती हैं, पता ही नहीं चलता…

मुझे याद नहीं कि बचपन में कभी सिर्फ इस वजह से स्‍कूल में देर तक रुकी रही होऊं कि बाहर बारिश हो रही है। भीगते हुए ही घर पहुंच जाती थी। और तब बारिश...

More

लड़कियाँ गौरैया होती है

लड़कियाँ गौरैया होती है फुदकती हैं एक डाल से दुसरी डाल तक मुस्कुराती हैं अपने टेढ़े मेढ़े दांतो से पकड़ लेती हैं अपनी चोंच में कुछ टुकड़े अनाज के वो आंगन सूना होता है...

More

तुम सिर्फ आँसूओं में तो नहीं…

तुम क्या गये, जीवन का आखरी पन्ना न्यूज-पेपर पर छपी एक्सिडेंट की खबर भर रह गया… घर भर-भर लोग आते रोते-चिल्लाते मैं डर से सहमे अपने बच्चों को देखकर कभी चुप होती कभी दुनिया...

More

कला – एक औरत की अनकही कथा

तीस तक आते-आते उसने आठ बार गर्भधारण किया और पाँच की माँ बनी ! आँखों के नीचे जमे होते छुआरे से छिलके और दूध चूस कर स्तन सूखे लूफ्फा के स्पोंज बन गये साल...

More

ये तुम्हारी धमकियों से भी ना डरती लड़कियाँ

रामजस कॉलेज में हुई हिंसा को लेकर एबीवीपी के खिलाफ मुहिम छेड़ने वाली शहीद की बेटी गुरमेहर कौर को रेप की धमकी देने के विरोध में प्रदर्शन हुआ, जिसमें बड़ी संख्या में लड़कियों ने...

More

मेरी जिंदगी के तमाम खूबसूरत पुरुषों को प्यार!

इन दिनों ज्ञान बांटने वालों की बाढ़ आई हुई है। हर इंसान लेखक है आलोचक है। पाठक गुमशुदा है। सलाह के नाम पर रेवड़ियां बाँटी जा रही है। कोई भी एक विषय उठा लिया...

More

मुझको यौम-ए-मुहब्बत जैसे किसी दिन की याद नहीं

आज वैलेंटाइन डे है। मोहब्बत के इज़हार का दिन। अपना मुल्क अफ़ग़ानिस्तान छोड़ा तो उम्र काफ़ी कम थी। यौम-ए-मुहब्बत जैसे किसी दिन की याद नहीं आती। बीच के दिनों मे जब जाना हुआ तो...

More

मुझमें जो भी अच्छा है सब तेरा है

जब तुम बाहर रहते हो… ऑफिस के काम से… तो और भी ज्यादा यह अहसास पुख्ता होता है कि तुमसे ही यह घर घर है। जरूरी नहीं कि यह बात सिर्फ स्त्री पर लागू...

More

बदन के हर झुलसे अंग पर एक टैटू दिखता है… ‘औरत’

बहुत कुछ गल गया था उस रोज़, जिस रोज़ कोई ‘पौरुष का घोल’ मुझ पर फेंक कर चलता बना। सड़क पर झुलसती मैं और इक मूक भीड़ जो ‘तेज़ाब -तेज़ाब’ सा कुछ चीख़ रही...

More

ये अंतिम रात मेरी तुम्हारे साथ थी…

कुछ प्रश्न मुझे हमेशा लहूलुहान कर देते हैं मैंने कभी अपना बचपन जिया ही नहीं। अनजाने ही अपने छोटे भाई-बहनों का दायित्व बड़ी बहन की जगह मां जैसा निभाने लग गई। 18-19 साल की...

More