देह की धुरी

जब फ़िकरे कसते हो औरत की देह की बनावट पे तो आग सी लग जाती है विद्रोह जग जाता है, जब तुम को घूरते...

लड़कियाँ गौरैया होती है

लड़कियाँ गौरैया होती है फुदकती हैं एक डाल से दुसरी डाल तक मुस्कुराती हैं अपने टेढ़े मेढ़े दांतो से पकड़ लेती हैं अपनी चोंच...

मुझको यौम-ए-मुहब्बत जैसे किसी दिन की याद नहीं

आज वैलेंटाइन डे है। मोहब्बत के इज़हार का दिन। अपना मुल्क अफ़ग़ानिस्तान छोड़ा तो उम्र काफ़ी कम थी। यौम-ए-मुहब्बत जैसे किसी दिन की याद...