बेटियां संपत्ति नहीं, जिस्म का हिस्सा होती हैं…

आइए पहले दान को समझ लें… दान किसी भी वस्तु या पदार्थ या संपत्ति का किया जा सकता है ना कि बेटियों का… क्योंकि बेटी संपत्ति नहीं हो सकती। दूसरा…Continue Reading →

निहलानी जी, फीमेल फैंटेसी से इतनी घबराहट क्यों हुई आपको?

पहलाज निहलानी जी, ‘लिपस्टिक अंडर माय बुर्का’ फिल्म को मुंबई फिल्म फ़ेस्टिवल में जेंडर इक्वेलिटी के लिए ‘ऑक्सफेम’ अवार्ड मिल…

0

मेरी जिंदगी के तमाम खूबसूरत पुरुषों को प्यार!

इन दिनों ज्ञान बांटने वालों की बाढ़ आई हुई है। हर इंसान लेखक है आलोचक है। पाठक गुमशुदा है। सलाह के नाम पर रेवड़ियां बाँटी जा रही है। कोई भी…Continue Reading →

हर महिला को जाननी चाहिए कोयंबटूर के मुरुगनाथम की कहानी

एसी नील्सन का एक सर्वे बताता है कि भारत में सिर्फ 12% महिलाएं ही सैनिटरी नैपकिन का प्रयोग करती हैं। ऐसा जागरुकता के अभाव और महंगे नैपकिन को खरीद पाने…Continue Reading →

मुझको यौम-ए-मुहब्बत जैसे किसी दिन की याद नहीं

आज वैलेंटाइन डे है। मोहब्बत के इज़हार का दिन। अपना मुल्क अफ़ग़ानिस्तान छोड़ा तो उम्र काफ़ी कम थी। यौम-ए-मुहब्बत जैसे…

0