शुक्रिया! ज़िन्दगी को बटर फ्लेवर वाले पॉपकॉर्न जैसी हल्की बना देने के लिए

यह खुला खत तो है मगर इसमें बेहद आत्मीय पल और मन के सुंदर कोने हैं। इसमें जितनी हकीकत है, उतना स्वप्न। जितना भरोसा...

मुझको यौम-ए-मुहब्बत जैसे किसी दिन की याद नहीं

आज वैलेंटाइन डे है। मोहब्बत के इज़हार का दिन। अपना मुल्क अफ़ग़ानिस्तान छोड़ा तो उम्र काफ़ी कम थी। यौम-ए-मुहब्बत जैसे किसी दिन की याद...