बेटियां संपत्ति नहीं, जिस्म का हिस्सा होती हैं…

आइए पहले दान को समझ लें… दान किसी भी वस्तु या पदार्थ या संपत्ति का किया जा सकता है ना कि बेटियों का… क्योंकि बेटी संपत्ति नहीं हो सकती। दूसरा…Continue Reading →

निहलानी जी, फीमेल फैंटेसी से इतनी घबराहट क्यों हुई आपको?

पहलाज निहलानी जी, ‘लिपस्टिक अंडर माय बुर्का’ फिल्म को मुंबई फिल्म फ़ेस्टिवल में जेंडर इक्वेलिटी के लिए ‘ऑक्सफेम’ अवार्ड मिल…

0

हँसने का यह मतलब नहीं कि हमारे साथ बदतमीजी की जाए!

बैंगलोर में हुई शर्मनाक घटना का कलंक हमारी सोसाइटी से शायद इतनी जल्दी न मिटे, मगर यह भी सच है कि धीरे-धीरे करके लोग उसे भूल ही जाएंगे। मगर जब…Continue Reading →